Get The App

Pregnancy Me Anda Khana Chahiye


गर्भवस्था में गर्भवती को हमेशा पोषक आहार विहार का सेवन करना चाहिए जिससे माँ एवं बच्चा दोनों ही स्वस्थ रहें। इस दौरान खाने पीने पर विशेष ध्यान देना चाहिए। ध्यान रहें कोई भी चीज न कम खाए न बहुत ज्यादा, हर चीज संतुलित मात्रा में लें।  
गर्भवती महिलाओ को प्रोटीन की अधिक आवश्यकता होती है, इसके लिए अंडा एक आसानी से उपलब्ध, स्वादिष्ट एवं अन्य पोषत तत्वों से भरपूर विकल्प है।  

अंडे के पोषक तत्व 
आपको उबला अंडा पसंद है? या आप अंडे को भुर्जी खाना ज्यादा पसंद करते हैं? खैर अगर आपको अंडे को भिन्न भिन्न प्रकार से खाना पसंद है तो बेशक खाइए क्योंकि अंडा बहुत से पोषक तत्वों की खदान है। 
अंडे में प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन बी, विटामिन बी 12, बायोटिन, राइबोफ्लेविन, थियामिन, सेलीनियम प्रोटीन वा बहुत सारे अन्य पोषक पदार्थ मौजूद होते हैं।  

प्रेगनेंसी में अंडे खाने के फायदे 

  • प्रोटीन कोशिकाओं के निर्माण एवं शिशु के विकास के लिए आवश्यक होता है एवं अंडे में उपस्थित प्रोटीन इसमें सहायक होता है। 
  • प्रोटीन एवं कैल्शियम से भरपूर होने के कारण ये हड्डियों को भी मजबूत बनाए रखता है। 
  • शरीर की ऊर्जा बनाए रखता है। 
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखता है। 
  • यह भ्रुण के मस्तिष्क का अच्छे से विकास करता है एवं न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट जैसे रोगों से सुरक्षित करता है।  
  • यह जच्चे और बच्चे दोनों की रोज की कैलोरी की जरूरत को पूरा करता है। 

    प्रेगनेंसी में कितना और कैसा अंडा खाएं? 
    अधिक मात्रा में यदि अंडे का सेवन किया जाए तो यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकता है। और यदि आप गर्भवती हैं तो अधिक कोलोस्ट्रोल होने से आपको दिक्कत हो सकती है। इसीलिए अंडे कितने खाने हैं यह आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर पर निर्भर करता है। 
    यदि आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल सामान्य है हो आप हफ्ते में 3 से 4 अंडो का सेवन कर सकती है। ध्यान रहे कि अंडा कभी भी कच्चा या अधपका नहीं खाना चाहिए। ऐसा करने से आप कई रोगों का शिकार हो सकती हैं। 

    क्या प्रेगनेंसी में अंडे खाने से कोई नुकसान हो सकता है? 
    अंडा इसे तो हानिकारक नहीं है परंतु इन निम्न तरीके से नुकसानदायक हो सकता है -  
  • यदि आप कच्चा या अधपका अंडा खाते हैं तो फूड पॉइजनिंग हो सकती है। कच्चे अंडे में सालमोनेला नाम का बैक्टेरिया पाया जाता जो आपको उल्टी, दस्त, बुखार एवं डिहाइड्रेशन का भी कारण बन सकता है।  
  • अंडे की पीली जर्दी में अधिक फैट होता है, और यदि आपने अधिक कोलेस्ट्रॉल होने पर भी अंडे का सेवन किया तो इससे आपका वजन बढ़ सकता है। इसके अतिरिक्त आपको रैशेज ( चकत्ते) आदि भी हो सकते हैं।